भारत के मिसाइल मैन A.P.J ABDUL KALAM का जीवन परिचय1 min read

0
38
Reading Time: 3 minutes

भारत के मिसाइल मैन A.P.J ABDUL KALAM का जीवन परिचय

सबसे उत्तम कार्य क्या होता है? किसी इंसान के दिल को खुश करना, किसी भूखे को खाना देना, जरूरतमंद की मदद करना, किसी दुखियारे का दुख हल्का करना और किसी घायल की सेवा करना…“डॉ अब्दुल कलाम

A.P.J Abdul Kalam के जीवन के बारे में यह आर्टिकल हे

सब ने इनके बारे में कुछ न कुछ सुना हुआ हे

पर वह एक ऐसे व्यक्तिमहत्व वाले इंसान हे जिनके बारे में जीतिनी जानकारी इक्कठा की जाय उतनी कम हे

उसी संघर्षमय जीवन की हम छोटीशी जानकारी जानने की कोशिश करते हे

वह भी अपनी मातृभाषा हिंदी में………

A.P.J Abdul Kalamके जीवन का अल्प परिचय

उनका जीवन संघर्ष से भरपूर था पर सभी कठिनायों का उन्होंने दटके सामना किया और एक सफल वैज्ञानिक बने उसी संघर्ष भरे जीवन के बारे में आज हम जानेगे

डॉ अब्दुल कलाम का जन्म 15अक्टुम्बर 1931 में तमिलनाडु राज्य के रामेश्वरम में हुवा था

उनका पूरा नाम अबुल पकीर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम हे

वह एक मध्यवर्ती परिवार के थे और उनके पिताजी जैनुलाबदीन एक नाविक थे

जो रामेश्वरम में आये हुवे हिन्दू धार्मिक भक्तो को एक छोर से दूसरे छोर घुमाया करते थे

A.P.J Abdul Kalam के परिवार की आर्थिक परिस्थिति कुछ ठीक नहीं थी

और परिवार की आर्थिक परिस्थिति के कारन उन्हें छोटीसी उम्र में ही काम करना पड़ा

वह अपने स्कूल के बाद पेपर और मैगजीन बेचा करते थे

इतनी कठिन परिस्थिति हो कर भी उन्होंने अपने पढाई पर पूरा ध्यान दिया

वह पूरा काम करके पढाई करते थे उनके अंदर हमेशा कुछ नया सिखने की भूक थी

स्कूल तक की पढाई उन्होंने अपने गांव के नजदीकी स्कूल से पूरी की

और आगे की पढाई के लिए उन्होंने तिरुचिलापल्ली के सेंट जोसफ कॉलेज में अड्मिशन ले लिया

जहा से उन्होंने 1954 में भौतिक विज्ञानं में ग्रेजुएशन कम्पेलेट कर लिया

उनकी पढाई में रूचि और कुछ कर दिखाने की जिज्ञासा के कारन परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक न हो के भी उनके पिताजी ने उनकी पढाई के लिए पूरा सपोर्ट किया और आगे की पढाई भी करवाई

भौतिक विज्ञानं में ग्रेजुएशन कम्पेलेट करने के बाद वह 1955 में मद्रास (चेन्नई) में आगे की पढाई करने के लिए आ गए

और उन्होंने मद्रास इन्स्टिटूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञानं (Aerospace Engineering) की पढाई पूरी की

A.P.J Abdul Kalam की जीवन की ऊंचाइया

उनके संघर्षमय जीवन के अल्प परिचय के बाद हम जानेगे उन्होंने अपने हौसले से अपनी जीवन में पायी हुई ऊंचाइयों के बारे में

मद्रास इन्स्टिटूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञानं (Aerospace Engineering) की पढाई पूरी करने के बाद Dr A.P.J Abdul Kalam रक्षा अनुसंधान एव विकास संघठन (DRDO) में वैज्ञानिक के तौर पर चुने गए

पर वहा पर काम करने से A.P.J Abdul Kalam को संतुस्टी नहीं मिली

रक्षा अनुसंधान एव विकास संघठन (DRDO) में उन्होंने भारतीय वायु सेना के लिए एक छोटेसे हेलीकॉप्टर का डिज़ाइन बनाने का काम किया था

पर कुछ अलग कर दिखाने की जिज्ञासा और हमेशा कुछ नया सिखने का उनका स्वभाव उन्हें वहा संतुस्टी नहीं दे रहा था

और रक्षा अनुसंधान एव विकास संघठन (DRDO) में एक सिमित काम होता था

और रोज रोज वही काम दोहराना पड़ता था कलाम एक सिमित काम में बंधे नहीं रहना चाहते थे

इसी लिए कुछ साल काम करने के बाद 1969 में उनका ट्रांसफर इस्रो ISRO में हो गया

इस्रो ISRO में वह भारत के सॅटॅलाइट लांच परियोजना के डायरेक्टर के तौर पर कार्यरत थे

उन्होंने अपने काम को बखूबी निभाया और वहा पर उन्हें यह एहसास भी हुआ की वे इसी काम के लिए बने हे

और एक के बाद एक शक्तिशाली मिसाइल बनाकर उन्होंने अपनी कार्यक्षमता सिद्ध करदी

उन्होंने बहुत सारी शक्तिशाली मिसाइल बनाकर भारत को दी और दुनिया को दिखा दिया की भारत किसी से कम नहीं

सफल वैज्ञानिक के रूप में कार्य करने के बाद Dr A.P.J Abdul Kalam को 2002 में भारत के 11 वे राष्ट्रपति बने

और वह जनता के राष्ट्रपति नाम से प्रचलित हुए

25 जुलाई 2002 से 25 जुलाई 2007 तक उन्होंने राष्ट्रपति पद का कारभार संभाला

Dr A.P.J Abdul Kalam की अध्यापन में रूचि होने के कारन

उन्होंने प्रोफेसर की नौकरी कर के युवको को मार्गदर्शन किया

कब हुई MissileMan की मृत्यु ?

मानवता की भलाई और युवको का जीवन सफल बनाने के लिए अब्दुल कलाम जी ने अपना पूरा जीवन अर्पित कर दिया

अपने जिंदगी के आखरी दिनों में भी वह मानवता के लिए काम करते रहे

ऐसे ही शिलॉन्ग में 27 जुलाई 2015 में स्पीच देते हुए उन्हें दिल का दौरा पड गया और वह हमें छोड़ कर चले गए

अपने जिंदगी के आखरी दिन तक देश के लिए काम करने वाले हमारे जनता के राष्ट्रपति को सलाम

Dr A.P.J Abdul Kalam लिखित किताबे

उन्होंने अपने जीवन के अनुभव से युवको के लिए कुछ प्रेरणा दायी किताबे लिखी हे जो हमें जरूर पढ़नी चाहिए

  • इंडिया 2020 ए विज़न फॉर द न्यू मिलेनियम
  • माय जर्नी
  • अनलीशिंग द पावर विदिन इंडिया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here