एटीएम का फुल फॉर्म हिंदी में ATM Full Form In Hindi1 min read

0
168
Reading Time: 4 minutes

आज टाइम मैं हर किसी को पैसो की ज़रूरत होती है आपको को लम्बी लाइन बैंको में लगने की ज़रूरत नहीं हो, बस किसी ATM पर जाए और अपने bank account से पैसे निकल लाए। एटीएम हमारे दैनिक कार्यों में यूज होने वाला शब्द है। जब आप शहर से बाहर जाते हैं तो आप एटीएम का उपयोग करके आसानी से पैसे निकाल सकते हैं।

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हिंदी में एटीएम फुल फॉर्म क्या है? एटीएम कितने प्रकार के होते हैं? हम आज इस लेख में इसके बारे में और जानेंगे।

आज के इस आर्टिकल में ATM क्या है? एटीएम लॉन्ग फॉर्म क्या है? एटीएम कैसे काम करता है? एटीएम कितने प्रकार के होते हैं? आदि हम प्रश्नों के बारे में जानकारी देखेंगे।

एटीएम क्या है? ATM Full Form In Hindi

आपने देखा होगा कि एटीएम एक ऐसी मशीन है जिसके द्वारा आप बहुत ही सरल तरीके से पैसे का लेन-देन कर सकते हैं।

अब एटीएम का फुल फॉर्म जानते हैं।

अंग्रेजी में ATM का फुल फॉर्म ” Automated Teller Machine ” होता है।

आज के समय में एटीएम का प्रयोग काफी बढ़ गया है और इसके कई फायदे हैं।

इसके अलावा, पुराने दिनों में, यदि आप गांव में पैसा भेजना चाहते थे, तो आपको मनी ऑर्डर करना पड़ता था और प्राप्तकर्ता तक पहुंचने में कई दिन लगते थे।

वहीं इस एटीएम मशीन से आप चंद मिनटों में कहीं भी तुरंत पैसे भेज सकते हैं.

ATM का फुलफॉर्म है- Automated Teller Machine

ATM in Hindi – ऑटोमेटेड टेलर मशीन

A – Automated

T – Teller

M – Machine

आज हम को ATM full form से समझ आ रहा है की ये पैसे निकालने का automatic तरीका है, जिसमे किसी cashier के होने की जरुआत नहीं। पर थोड़ा सही से जानते है की ATM क्या है?

एटीएम का इतिहास History Of ATM

1960 में, एक अमेरिकी, लूथर जॉर्ज सिमजियन ने एक मशीन का आविष्कार किया, जिसे बैंकोग्राफ कहा जाता है। इस मशीन को पैसे जुटाने के लिए डिजाइन किया गया था। मशीन को बाद में जून 1967 में लंदन में बार्कलेज बैंक शाखा में स्थापित किया गया था। इस खोज का श्रेय ब्रिटिश खोजकर्ता जॉन शेफर्ड-बैरोन को भी दिया जाता है।

एटीएम क्या है?

एटीएम एक इलेक्ट्रॉनिक टेलीकम्युनिकेशन मशीन है जिसका इस्तेमाल कई तरह के पैसे के लेन-देन जैसे कि निकासी और प्रेषण में किया जाता है।

आपने इन एटीएम मशीनों को ज्यादातर समय शहर के अलग-अलग हिस्सों में देखा होगा। एटीएम मशीनों के आगमन के साथ, बैंकिंग लेनदेन आसान और तेज हो गए हैं।

एटीएम मशीन ने पैसे निकालना और भेजना आसान बना दिया है, जिससे बैंक में जानबूझकर एक पर्ची भरने और फिर उस पर अधिकारी के हस्ताक्षर और मुहर लगाने की आवश्यकता बहुत कम हो गई है।

अब आपको इस मशीन से पैसे का लेन-देन करने के लिए बैंक से एक प्लास्टिक कार्ड मिलता है। इस कार्ड के साथ आपको एक पासवर्ड दिया जाता है। जिसे आपको मशीन में अपना कार्ड डालने के बाद टाइप करना है। तभी आपके पैसे का लेन-देन संभव है।

एटीएम कैसे काम करता है?

एटीएम का लंबा रूप हमने देखा है कि ऑटोमेटेड टेलर मशीन इस तरह है। अब हम यह जानने जा रहे हैं कि यह एटीएम कैसे काम करता है।

किसी भी एटीएम से पैसे का लेन-देन करने के लिए सबसे पहले एटीएम कार्ड की जरूरत होती है। यह एटीएम कार्ड प्लास्टिक का बना है और यह कार्ड आपको बैंक से मिलता है।

साथ ही आपको एटीएम कार्ड के साथ एक गोपनीय पिन मिलता है। यह पिन केवल आपके एटीएम कार्ड के साथ काम करता है।

अब अगर आपके पास यह एटीएम कार्ड है तो आपको इस कार्ड को कुछ समय के लिए एटीएम मशीन में छोटी सी जगह में रखना होगा।

कभी-कभी कुछ मशीनों में आपको दिए गए स्थान में अपना कार्ड घुमाना पड़ता है यानी आपको कार्ड को स्वैप करना होता है।

यह एटीएम कार्ड आपकी सारी जानकारी स्टोर करता है। यह जानकारी कार्ड पर काली पट्टी में इलेक्ट्रॉनिक रूप से संग्रहीत की जाती है। उस जानकारी की पहचान एटीएम मशीन से होती है।

आपके द्वारा इस कार्ड को स्वैप करने के बाद, यह आपकी जानकारी के साथ स्क्रीन पर दिखाई देता है। जैसे आपका नाम और अन्य चीजें। इसके बाद यह आपसे निम्नलिखित प्रश्न पूछता है।

नकद निकासी Cash Withdrawl: इसमें आपके पैसे की निकासी शामिल है।

नकद जमा Cash Deposit: इससे आप अपने खाते में या दूसरों के खाते में पैसा जमा कर सकते हैं।

Bank Statement: इसमें आपको अपने पिछले कुछ लेन-देन की जानकारी मिलती है। यह एक Passbook Entry पासबुक एंट्री की तरह है।

मनी ट्रांसफर Money Transfer: इससे आप अपने अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

ATM में क्या क्या होता है?

ATM एक computer की तरह है जो वो सब काम करता है जो की एक केशियर के काम होते है।
ATM के अंदर कुछ अलग अलग devices होती है जैसे की :-

  • Computer
  • Magnetic chip card reader
  • Keyboard
  • Display screen
  • Printer
  • पैसे रखने का Vault

ATM के फायदे

आज ATM की मदद से आप किसी भी दूसरे शहर में बिना पैसे लिए जा सकते है। आपको जब भी पैसे की ज़रूरत हो, सीधा उस शहर के किसी भी एटीएम में जाकर पैसे निकल ले।
पर:
पहले ऐसा नहीं था, पहले आपको कहि भी जाना है, तो वह आने जाने का, रहने खाने का सारा खर्चा आपको पहले से अपने पास रखकर लेजाना होता है, ऐसे में पैसे छोटी होने का दर बना रहता था। एटीएम के इस फायदे के साथ से बहुत से और फायदे भी है जैसे की :-

  • ATM 24 घंटे सुविधा देते है।
  • बैंक की लाइन में लगने का टाइम बचता है।
  • आप किसी भी शहर में किसी भी बैंक के ATM से पैसे निकाल सकते है।
  • ATM बिना किसी गड़बड़ी के पैसे withdraw करता है।
  • ATM से बैंक के कर्मचारियों का काम भी कम होता होता है।
  • ATM से नए नोट देने में आसानी होती है।
  • आप दुसरो के अकाउंट में पैसे भी atm से ट्रांसफर कर सकते है।

ATM का इस्तेमाल कैसे करे?

ATM machine में options एक जैसे होते है, पर उनको दिखाने का तरीका किसी किसी में अलग होता है।
कोई language सिलेक्शन का ऑप्शन पहले देता है तो कोई pin डालने का।
हम आपको या ATM से पैसे निकालने का तरीका बताते है, जो लगभग सब ATM ने होता है।

पहले card ATM machine में डाले।

आपको सबसे पहले ATM machine में card डालना है।
कुछ machine से card वापिस आ जाता है तो कुछ से transaction पूरा होने के बाद ही card वापिस आ सकता है।

Language चुने

ज़्यादातर ATM Hindi और English का option देते है, आपकी location के हिसाब से language options बदल भी सकते है।

Pin डाले

आपके atm card के sath 4 अंको का ATM pin होता है, जो आपको यह enter करना है।

Transaction type चुने

यहाँ पर आपको withdraw पर click करना है। बाकी option भी होंगे जैसे की balance inquiry, last five transection।

Account type चुने

यह पर आपको अपने अकाउंट का टाइप चुनना है, मतलव saving या current account।

पैसे लिखे।

आपको जितने भी पैसे निकालने है, उनको लिखे।

Slip लेने के option पर click करे।

आपको payment की slip लेनी है या नहीं पर click करे।

अपनी payment ले।

आपके पैसे ATM machine से बाहर आ जाएगे, उनको ले ले।

Payment की स्लिप ले।

पैसो के बाद payment slip भी ले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here