Reading Time: 4 minutes

हेल्लो दोस्तों | आज इस लेख में हम जानेंगे के इन्टरनेट क्या है | इन्टरनेट की शुरुआत कैसे हुई  तथा इन्टरनेट से जुड़े कई तथ्य |आज के इस युग में इन्टरनेट का उपयोग लगभग सभी करते है इन्टरनेट ने हमारे जीवन को सुलभ बना दिया है| इन्टरनेट के माध्यम से न सिर्फ हम कोई भी जानकारी प्राप्त कर सकते है बल्कि इसके माध्यम से कई लोग ऑनलाइन पैसा भी कमा रहे है|पर बहुत ही कम लोग होंगे जो जानते हैं की इन्टरनेट है क्या और ये कैसे काम करता है | इन्टरनेट के बारे में सम्पूर्ण रूप से जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़िए तो चलिए शुरू करते है |

इन्टरनेट क्या है:

सूचना के आदान-प्रदान का वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क इन्टरनेट कहलाता है जिसमे सभी कंप्यूटर आपस में जुड़े रहते है| इन्टरनेट के अर्थ को सरल शब्दों में प्रकट किया जाये तो इसका मतलब इंटरनेशनल राऊटर होता है जो की दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क है | यह दुनिया के सभी कंप्यूटरो को राऊटर और वेब सर्वर के माध्यम से आपस में जोड़ता है

इन्टरनेट का इतिहास:

  • सबसे पहले इन्टरनेट की शुरुआत अमेरिकी सेना द्वारा पेंटागन अमेरिका के रक्षा विभाग में की गयी थी| वर्ष 1969 में ARPA मतलब ( Advance,Research,Project,Agency) नाम का Networking Project लॉन्च किया गया जिसका इस्तेमाल युद्ध के समय बिना किसी मुश्किलों के गोपनीय सूचना भेजने और संचार व्यवस्था को सुरक्षित रखने के लिए किया गया था | वहीँ थोड़े समय बाद इससे मिलने वाले लाभों को देख शोधकर्ता , वैज्ञानिक, मिलिट्री के लोग और कॉन्ट्रैक्टर्स इसका इस्तेमाल करने लगे |
  • ARPA ली कामयाबी के बाद इसे सामान्य जन-जीवन के उपयोग करने लायक बनाया गया तब इसे नाम दिया गया (ARPANET) यानी एडवांस रिसर्च प्रोजेक्ट एजेंसी नेटवर्क | अमेरिकी वैज्ञानिक लियाँनोर्ड क्लिंरॉक और पोल बारेन तथा ब्रिटिश वैज्ञानिक डोनाल्ड डेविस और लोरेन्स रोबर्ट्स ने इस सिस्टम का कॉन्सेप्ट डिजाईन किया|
  • रेटामलिंसन  ने नेटवर्क के लिए पहला फाइल ट्रान्सफर (FTP) CPYNET तैयार किया | रेटामलिंसन ने साल 1972  में पहला email भेजा | हालांकि प्रारंभ में इमेल उसी को भेजी जा सकती थी जो उसी तरह का कंप्यूटर इस्तेमाल कर रहा हो| इस दिक्कत से निजात पाने के लिए  रेटामलिंसन ने @ का इजाद किया|
  • ब्रिटिश डाकघर में पहली बार इन्टरनेट का इस्तेमाल सन 1979 में नै प्रोद्योगिकी के रूप में हुआ | इसके बाद ही कंप्यूटर तकनिकी में तेज़ी से विकास हुआ |
  • नेशनल साइंस फाउंडेशन ने कुछ हाई स्पीड कंप्यूटरो को जोड़कर साल 1980 में एक नेटवर्क (NSFNET)तैयार किया गया जिसने बाद में internet की नींव रखी वाही इसी साल bill gates की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने भी अपना ऑपरेटिंग सिस्टम आइबीएम के कंप्यूटर पर लगाने का सौदा तय किया गया|
  • साल 1984 में इस नेटवर्क से 1000 से ज्यादा निजी नेटवर्क जुड़ गए थे | इसके बाद धीरे-धीरे इसका विकास हुआ और आज इसने दुनिया के सबसे बड़े नेटवर्क का रूप धारण कर लिया है |
  • आम जनता के लिए साल 1989 में इन्टरनेट खोल दिया गया जिससे इसका इस्तेमाल बड़े स्टार पर लोगो द्वारा communication और researchके लिए किया जाने लगा |
  • वर्ल्ड वाइड वेब की की खोज से इन्टरनेट को साल 1990 में एक नयी दशा दी गई | इसके बाद इस क्षेत्र में और तेज़ी से विकास होता चला गया |
  • शिक्षा एवं सूचनाओ से आदान-प्रदान के लिए  हाई स्पीड नेटवर्क को विकसित करने के मकसद से साल 1991 में (नेशनल research एंड एजुकेशनल नेटवर्क) NREN की स्थापना की गयी|
  • इसके बाद साल 1993 में पहले ग्रोफिक वेब ब्राउज़र और मोजाइक सॉफ्टवेयर की खोज ने इन्टरनेट को गति प्रदान की

इन्टरनेट की दुनिया में तेज़ी से नए-नए आविष्कार होते चले गए और इसका तेज़ी से विकास होता चला गया और आज सभी देशो के नेटवर्क आपस में जुड़ गए है जिससे सूचना का आदान-प्रदान, शोध , वित्तीय लेन-देन समेत तमाम चीज़े सेकेंडो में की जाने लगी है |जिसके बारे में पहले कभी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी

भारत में इन्टरनेट की शुरुआत कब हुई:

भारत में इन्टरनेट की शुरुआत सन 1980 से हुई जब एजुकेशन रिसर्च नेटवर्क (ERNET) प्रोजेक्ट का प्रारंभ हुआ | इस प्रोजेक्ट को भारत सरकार और UNDP की मदद से प्रारंभ किया गया | विदेश संचार निगम लिमिटेड द्वारा टेलीफोन लाइन के ज़रिये भारत में सबसे पहले टेलीफोन 15 अगस्त साल 1995 में किया गया था | सुरुआत में देश में करीब 20 -30 कंप्यूटर ही इन्टरनेट से जुड़ सकते थे | उस वक्त सिर्फ ज़रूरी सूचनाओ के आदान प्रदान करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता था | सिर्फ कुछ बड़े-बड़े संस्थानों और collage को ही इन्टरनेट से जोड़ा गया था | वाही स्पीड भी बहुत कम थी| इसके बाद जेसे-जेसे इन्टरनेट का भारत में विस्तार बढ़ता गया वेसे-वेसे इन्टरनेट की स्पीड भी बढती चली गयी |

90 के दशक में इन्टरनेट का तेज़ी से विकास हुआ और इसकी पहुँच देश के कोने-कोने में पहुच गयी| वाही आज इन्टरनेट का इस्तेमाल लोग  सूचनाओं के आदान-प्रदान और शिक्षा व शोध के ही लिए नहीं बल्कि आज लाखो-करोड़ो लोग घर बैठे इन्टरनेट से पैसा भी कमा रहे है

आज दुनिया में ऐसा कोई क्षेत्र नहीं है जो इन्टरनेट से वंचित रह गया हो | इसलिए इन्टरनेट को अब तक के सबसे बड़े और अच्छे आविष्कारो में माना गया है|

Conclusion:

आज के हमारे लेख का विषय था “इन्टरनेट क्या है ” उम्मीद करता हूँ आपको मेरा ये लेख ज़रूर पसंद आया होगा| इस लेख में मैंनेआपको ”इन्टरनेट क्या है ”के बारे में पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है अगर आपको मेरी ये जानकारी पसंद आये तो अपने दोस्तों  व् अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर ज़रूर शेयर करे |  टेक्नोलॉजी,ब्लॉग्गिंग और इतिहास से रिलेटेड और भी जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट gyaanhindime.com को ज़रूर सब्सक्राइब कर ले|

अगर इसमें कुछ कमी लगे , या आपके मन में कोई सलाह या फिर कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं| 

                         धन्यवाद् 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here