पपीते में फल और फूल गिरने पर क्या करें ? || Papaya Plants Caring in Flowering1 min read

0
6
Reading Time: 3 minutes

पपीते के पेड़ को घर के बगीचे में आसानी से लगाया जा सकता है। यह अन्य पेड़ों की तुलना में कम जगह लेता है और इसमें फलों से लेकर पत्तियों तक कई औषधीय गुण होते हैं। इसलिए इसे कई घरों में उगाया जाता है। घर में दो तरह के पपीते उगाए जा सकते हैं। पपीते को घर के बगीचों में दो तरह से उगाया जा सकता है एक है बीज और दूसरा है पौध। हमने कई बार देखा है कि पपीते के पेड़ में फल नहीं लगते। न केवल फूल आते हैं और चले जाते हैं लेकिन फल लगने का नाम नहीं लेते।

पपीते के पेड़ में फल नहीं लग रहे तो इसके कई कारण हो सकते हैं। आप चाहें तो यहां बताए गए टिप्स की मदद से इसकी देखभाल कर सकते हैं।

पपीते के पेड़ 7-8 महीने में फल देने लगते हैं 4 साल तक जीवित रहते हैं। उसके बाद वह धीरे-धीरे मर जाता है। ऐसे में कई लोग इसे जड़ से उखाड़ कर फेंक देते हैं और पपीते के पौधे को दोबारा लगा देते हैं। यदि आप अपने यार्ड में पपीते के पौधे उगाते हैं तो आपको थोड़ी देखभाल करने की आवश्यकता है क्योंकि उचित देखभाल के अभाव में यह फल नहीं दे सकता है।

कौन सा पपीते का पौधा लगाना चाहिए

पपीता दो प्रकार का होता है नर और मादा। यदि पपीते के पौधे मेल खाते हैं तो पपीते के पेड़ फल नहीं देंगे। लाख कष्टों के बाद भी फल आने पर भी पेड़ तुरन्त गिर जाता है। यदि आपके पास बीज से पपीते के पौधे हैं तो आप एक ही समय में अलग-अलग जगहों पर कई बीज उगाते हैं। जब पौधे बाहर निकलते हैं तो कुछ दिनों के लिए उन्हें छोड़ देते हैं और फिर विशेषज्ञों की मदद से नर और मादा की खोज करते हैं। अगर आपके पास पपीते के पौधे हैं तो भी ध्यान रखें कि सिर्फ मादा ही लगाएं। महिलाओं ने बगीचे में (बगीचे में सिरके का उपयोग करके) पपीते के पौधे उगाए।

कीड़ों की वजह से भी नहीं लगते हैं फल

पपीते के पेड़ पर कीटों के प्रकोप के कारण पौधों की वृद्धि रुक ​​गई और फल नहीं लगे। इसलिए उसकी देखभाल करना और जरूरत पड़ने पर स्टूल का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। आमतौर पर हम पपीते के पेड़ पर लगे कीड़ों या फंगस को नहीं जानते लेकिन समस्या तभी जानते हैं जब फूल गिरने लगते हैं। पपीते के पेड़ पर कीड़े लगे थे जिसका अंदाजा हम पत्तों से लगा सकते हैं। पपीते के पेड़ की अखंडता सुनिश्चित करने के लिए एक बार जब पत्ते पीले होने लगें तो उन्हें नीचे से अलग कर लें। ऐसा केवल निचली पत्तियों के लिए करें और ऊपरी पत्तियों को न हटाएं।

गोबर का करें इस्तेमाल

खाद के रूप में गोबर का इस्तेमाल ज्यादातर लोग करते हैं, ऐसे में पपीते के पेड़ को कीड़े और फंगस से बचाने के लिए भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए पपीते के तने से आधे फीट की दूसरी पर मिट्टी को खोदें और फिर इसमें गोबर को मिक्स कर दें। ऐसा करने से कीड़े नहीं लगेंगे, लेकिन इसमें अधिक फंगस या फिर कीड़े लग गए हैं तो मार्केट से कीटनाशक लाकर इसका उपयोग कर सकते हैं। वहीं बारिश के मौसम में पपीते के पेड़ के आसपास अधिक नमी नहीं होनी चाहिए। दरअसल पपीते के पेड़ को ज्यादा नमी नुकसान पहुंचाती है। मिट्टी में अधिक नमी की वजह से पेड़ सड़ जाते हैं।

यहां बताए गए टिप्स की मदद से आप पपीते के पेड़ की देखरेख कर सकती हैं। साथ ही, अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here